bullet शासकीय विभाग

 

20 सूत्री क्रियान्वयन विभाग

 

रूपरेखा

समाज के सबसे कमजोर वर्ग के लोगों को सबसे पहले मदद करने, उन्हें सम्मानपूर्वक जीवन यापन के अवसर सुलभ कराने और समाज में व्याप्त आर्थिक विषमता दूर करने के उद्‌देश्य से देश में २० सूत्राीय कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया । यह कार्यक्रम १ अप्रैल, १९८७ से सम्पूर्ण भारत वर्ष में प्रभावशील है ।

बीस सूत्रीय कार्यक्रम के क्रियान्वयन की प्रगति का संकलन, अनुश्रवण एवं समीक्षा करना । भूमि सेना संगठन से संबंधित शेष कार्यो को पूरा करना । राज्य स्तरीय जिला स्तरीय विकास खण्ड स्तरीय एवं शहरी क्षेत्र २० सूत्रीय समितियों का गठन । भारत सरकार के सांखियकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय ;कार्यक्रम कार्यान्वयन विभागद्ध द्वारा २० सूत्रीय कार्यक्रम के सफल क्रियान्वयन हेतु समय-समय पर प्रसारित निर्देशों के अनुसार अनुवर्ती कार्यवाही सुनिश्चित करना ।

ऐसी सेवाओं से संबंधित सभी विषय जिनका विभाग से सम्बन्ध हो ;वित्त विभाग तथा सामान्य प्रशासन विभाग को आवंटित किये गये विषयों को छोड़ करद्ध उदाहरणार्थ- नियुक्तियां, पदस्थापनाएं, स्थानान्तरण, वेतन, छुट्‌टी, निवृत्ति वेतन, पदोन्नतियां, भविष्य निधियां, प्रतिनियुक्तियां, दण्ड तथा अभ्यावेदन ।

इस विभाग के अंतर्गत संस्थान और संगठन